खूंखार माफिया और हत्यारे मुख्तार अंसारी को बचा रही हैं कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा

189
खूंखार माफिया और हत्यारे मुख्तार अंसारी को बचा रही हैं कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा
खूंखार माफिया और हत्यारे मुख्तार अंसारी को बचा रही हैं कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा

बाहुबली मुख्तार अंसारी पर लगे कई आरोपों में से एक विधायक रहे कृष्णानंद राय की हत्या का आरोप भी है । इसपर पूर्व विधायक की पत्नी और मोहम्मदाबाद से भाजपा विधायक अलका राय ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा को एक भावुक कर देने वाला पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने आरोप लगाया है कि वह 14 साल से पति की हत्या का इंसाफ पाने के लिए लड़ रही हैं, लेकिन कॉन्ग्रेस उस हत्यारे (मुख्तार अंसारी) को खुला संरक्षण दे रही है।

उन्होंने आरोप लगाया कि आज जब उत्तर प्रदेश की कई अदालतों द्वारा मुख़्तार अंसारी को तलब किया जा रहा है, पंजाब की कॉन्ग्रेस सरकार उन्हें भेजने को तैयार नहीं है। उन्होंने कहा कि हर बार कोई न कोई बहाना बना कर उन जैसे सैकड़ों पीड़ितों को न्याय से वंचित किया जा रहा है। अलका राय ने पूछा कि आखिर कॉन्ग्रेस पार्टी की सरकार इतने शर्मनाक तरीके से और निर्लज्जता से एक दुर्दांत अपराधी के साथ कैसे खड़ी हैं? उन्होंने पत्र में लिखा:

“कोई भी ये स्वीकार नहीं करेगा कि ये सब आपके (प्रियंका गाँधी) और राहुल गाँधी की मर्जी के बगैर हो रहा है। मुख़्तार अंसारी एक पेशेवर अपराधी है, जिसने तमाम निर्दोष लोगों की हत्याएँ की हैं। अनेक माताओं-बहनों का उसने सुहाग उजाड़ा है और कई बच्चों के सिर से उसने पिता का साया छीना है। प्रत्येक पीड़ित को उस क्षण की प्रतीक्षा है, जब उसे अपने किए की कड़ी सज़ा मिलेगी। न्याय की आस में हमारा हर दिन तिल-तिल कर गुजर रहा है। आप खुद एक महिला हैं। आप ऐसा क्यों कर रही हैं? क्या आपको हम जैसी अबलाओं का दर्द नहीं दिख रहा? मेरी खुद की कहानी इसका प्रमाण है कि मुख़्तार कैसे सालों से क़ानून का मजाक उड़ा कर सुरक्षित बचा हुआ है।”

अलका राय ने प्रियंका गाँधी से कहा कि ये बेहद खेदजनक है कि वो और उनकी कॉन्ग्रेस पार्टी मुख़्तार अंसारी जैसे घिनौने अपराधियों के साथ खुल कर खड़ी है। उन्होंने कहा कि उन्हें मीडिया से पता चला है कि जब उत्तर प्रदेश की गाड़ियाँ मुख़्तार अंसारी को लेने पहुँचीं तो उसे 3 महीने का बेड रेस्ट दे दिया गया। उन्होंने कहा कि वो और उन जैसे सैकड़ों लोग इस बात से हताश हैं, जिन्हें न्याय का इन्तजार है।

बकौल अलका राय, आज उत्तर प्रदेश की पूरी जनता के मन में संदेह है कि मुख़्तार अंसारी को लेकर उठ रहे सवालों पर राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी चुप क्यों हैं? उन्होंने सवाल दागा कि वोट बैंक की मज़बूरी में ये दोनों एक कुख्यात अपराधी को बचाने की कोशिश क्यों कर रहे हैं? उन्होंने लिखा कि उन्हें प्रियंका गाँधी के जवाब का इंतजार रहेगा। उन्होंने कहा कि अगर आपके मन में थोड़ी भी संवेदना हैं तो पत्र का जवाब दें और मुख़्तार अंसारी को सज़ा दिलाने में मदद करें।

बता दें कि 29 नवंबर 2005 के दिन बेख़ौफ़ हत्यारों ने एके-47 से 400 राउंड गोलियाँ चलाई थीं, जिसमें तत्कालीन भाजपा विधायक कृष्णानंद राय सहित 6 लोगों की मौत हो गई थी। मृतकों के शरीर से 67 गोलियाँ निकाली गई थीं। इस मामले के चश्मदीद गवाह शशिकांत राय शराब पीने के बाद संदिग्ध स्थिति में सड़क पर बेहोश पड़े पाए गए, जिसके बाद उनकी मौत हो गई थी। डेढ़ महीने के भीतर ही एक और गवाह मनोज गौड़ की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई।