Tanishq के विवादित विज्ञापन में ‘लव जिहाद’ को प्रमोट करने के पीछे ब्रांड मैनेजर मंसूर खान का शातिर दिमाग

क्या टाटा कंपनी किसी मुस्लिम लड़की को इस तरह से हिंदू परिवार में ब्याने की थीम पर ऐड बनाने की हिम्मत कर सकता है। लोग इस विज्ञापन के जरिए हिंदुओं को नीचा दिखाने और लव जिहाद को प्रमोट करने का आरोप लगा रहे हैं जिसे लेकर सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा गुस्सा फूट पड़ा। कोई इसे लव जिहाद’ को बढ़ावा देने वाला बता रहा है, तो कोई एंटी- हिंदू. कई लोगों ने तो तनिष्क के गहने ना खरीदने की बात करते हुए इस ब्रांड को बॉयकॉट करने की मांग उठान शुरू कर दिया हैं. ट्विटर पर तनिष्क ट्रेंड कर रहा है और लोग इस ऐड के बारे में पोस्ट, कमेंट कर रहे हैं और अपने रिएक्शन भी दे रहे हैं.

246
Tanishq के विवादित विज्ञापन में 'लव जिहाद' को प्रमोट करने के पीछे ब्रांड मैनेजर मंसूर खान का शातिर दिमाग
Tanishq के विवादित विज्ञापन में 'लव जिहाद' को प्रमोट करने के पीछे ब्रांड मैनेजर मंसूर खान का शातिर दिमाग

‘तनिष्क ज्वैलरी’ की इस वीडियो में जिस जोड़े को दिखाया गया है, गहनों से लदी हुई एक महिला गोदभराई की रस्म के लिए तैयार हो रही है। जानने लायक बात ये है कि वो इंटरफेथ कपल होता है, अर्थात पति-पत्नी अलग-अलग धर्म के होते हैं।

‘लव जिहाद’ की कई खबरों के बीच आए इस वीडियो में महिला को पारम्परिक साड़ी, बिंदी और गहने पहने हुए दिखाया गया था। हालाँकि, उसके साथ परिवार में जो अन्य लोग हैं, वो मुस्लिम हैं। उसके साथ जो बुजुर्ग महिला दिख रही है, उसने बिंदी भी नहीं लगाई है।

परिवार के लोग गहनों से लदी हिन्दू महिला को सरप्राइज के लिए बगीचे में लेकर जा रहे होते हैं। बैकग्राउंड में दीपमालाएँ हैं और नटराज की प्रतिमा भी है। मुस्लिम परिवार को एकदम ‘सहिष्णु’ दिखाने का प्रयास किया गया है।

साथ ही मुस्लिम परिवार का बुजुर्ग भी साज-सजावट में व्यस्त रहता है। बैकग्राउंड में एक महिला कहती है, “रिश्ते हैं कुछ नए-नए, धागे हैं कुछ कच्चे-पक्के। अपने बल से इन्हें सहलाएँगे, प्यार पिरोते जाएँगे। एक से दूजा सिरा जोड़ देंगे, एक बँधन बनते जाएँगे।”

इस वीडियो में भरा-पूरा मुस्लिम परिवार दिखता है, जहाँ बुजुर्गों से लेकर बच्चों तक गर्भवती हिन्दू महिला को सरप्राइज देने के लिए बगीचे में इन्तजार कर रहे हैं।

मंसूर खान नामक जिहादी दिमाग है उस तनिष्क के विज्ञापन के पीछे जिधर मुस्लिम परिवार में हिन्दू लड़की की गोद भराई की रस्म दिखा रहे हैं लोगों ने जम कर बहिष्कार करना शुरू कर दिया है। इतना ही नहीं लोग मैसेज यह भी चला रहे हैं कि इस बार दीपावली में तनिष्क का दिवाला निकाल देंगे।

शायद राष्ट्रवादी रतन टाटा को भी पता चल गया होगा कि एक जिहादी को काम पर रखना कितना ख़तरनाक होता है। शायद ईरान में इस्लाम द्वारा रोंद दिये गए पारसियों की कहानी नाव में बचकर भारत शरण लेने आए रतन टाटा के परिवार ने उनको नहीं सुनाई, अपने पर बीते जिहाद की आप बीती नहीं सुनाई।

अन्यथा इतने बड़े पद पर किसी जिहादी को रखना कम से कम भुक्तभोगी पारसी समाज तो नहीं करता। आज भी किसी ऐसे मुद्दे पर टाटा का क्या किसी का भी विज्ञापन आ गया जो मुस्लिम समाज की सच्चाई, मुहम्मद की सच्चाई उनकी किताब से ही कोट कर के बता दें तो मुसल्लम ईमान वाले उसका पूर्ण बहिष्कार करने से चूकेंगे नहीं।

ध्यान देने वाली बात है कि इसमें दिखाया गया है कि एक हिन्दू महिला की मुस्लिम परिवार में शादी हुई है, जहाँ लोग उसे खासा प्यार कर रहे हैं। हाल ही में दिल्ली में एक युवक की हत्या सिर्फ इसलिए कर दी गई क्योंकि उसने एक मुस्लिम लड़की से प्यार करने की गलती की थी।

ऐसे दौर में जब कनिष्क का यह विज्ञापन यह पाठ पढ़ाने की कोशिश करता है कि हिंदू लड़कियां मुस्लिम से निकाह करने के बाद अधिक सम्मान और स्नेह पा सकती है तो लोगों का गुस्सा फूटना स्वाभाविक था।

हिंदुओं को सेकुलरिज्म का पाठ पढ़ाने की इस कोशिश को दरअसल हिंदू बेटियों को लव जिहाद के प्रति सम्मोहित करने का कुत्सित प्रयास बताया गया ।

बताया जा रहा है कि बेंगलुरु के ब्रांड मैनेजर मंसूर खान के प्रोत्साहन से इस तरह का विज्ञापन तैयार किया गया है। इसे यूट्यूब पर भी लोगों ने जमकर अनलाइक किया तो वही ट्विटर पर भी #बॉयकॉट तनिष्क ट्रेंड करने लगा। लोगों ने तनिष्क ज्वैलरी के बहिष्कार की घोषणा कर दी ।