प्रज्ञा ठाकुर ने ‘देशभक्त गोडसे’ बयान पर मांगी माफी, कही ये बड़ी बात !

37

नई दिल्ली । गोडसे पर दिए बयान पर मचे बवाल के बाद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने माफी मांग ली है। प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि मेरा मकसद किसी को ठेस पहुंचाने का नहीं था। उन्होंने कहा, मेरे बयान से किसी की भावनाओं को कष्ट पहुंचा है तो मैं माफी मांगती हूं। बीजेपी ने भी साध्वी के बयान पर नाराजगी जताते हुए उनसे स्पष्टीकरण मांगा था और सार्वजनिक तौर पर माफी मांगने की बात कही थी।

भोपाल से बीजेपी कैंडिडेट के इस बयान के बाद विपक्ष भी बीजेपी पर बेहद हमलावर हो गया था। अपने बयान पर सफाई देते हुए साध्वी प्रज्ञा ने कहा, मैं रोड शो में थी, भगवा आतंक को जोड़कर मुझसे प्रश्न किया गया, मैंने तत्काल चलते-चलते उत्तर दिया। मेरी भावना किसी को कष्ट पहुंचाने की नहीं थी। किसी भावनाओं को कष्ट पहुंचा है तो मैं माफी मांगती हूं।

गांधी जी ने देश के लिए जो भी किया है उसे भुलाया नहीं जा सकता है। मैं उनका बहुत सम्मान करती हूं। इस बयान को मीडिया ने तोड़-मरोड़कर पेश किया है। मैं पार्टी का अनुशासन मानने वाली कार्यकर्ता हूं। जो पार्टी की लाइन है वही मेरी लाइन है।

नेता से अभिनेता बने कमल हासन के गोडसे को पहला हिंदू आतंकी बताने के बयान पर जब साध्वी से प्रतिक्रिया मांगी गई तो उन्होंने कहा, गोड़से देशभक्त थे, हैं और रहेंगे। उन्हें हिंदू आतंकवादी बताने वाले अपने गिरेबान में झांककर देखें। अबकी बार चुनाव में ऐसे लोगों को जवाब दे दिया जाएगा।

बीजेपी ने दी सफाई
विवाद बढ़ने पर बीजेपी के जीवीएल नरसिम्हा राव ने कहा था कि पार्टी साध्वी प्रज्ञा के बयान से सहमत नहीं है। हम इस बयान की निंदा करते हैं। राव ने कहा कि पार्टी उनसे इस मामले में सफाई देने को कहेगी। राव ने कहा था कि साध्वी को अपने इस बयान के लिए सार्वजनिक तौर पर माफी मांगनी चाहिए।

‘बापू का हत्यारा देशभक्त’ कहने पर विपक्ष का हमला
इस पूरे मामले पर कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा था, बापू का हत्यारा देशभक्त ? हे राम! उम्मीदवार से खुद को अलग करना काफी नहीं है। वहीं भोपाल से साध्वी के खिलाफ चुनाव लड़ रहे कांग्रेस उम्मीदवार दिग्जविजय सिंह ने कहा था कि प्रज्ञा के इस बयान पर पीएम मोदी और अमित शाह को माफी मांगनी चाहिए। इसके अलावा नैशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने तंज कसते हुए कहा था कि यदि गोडसे देशभक्त हैं तो क्या गांधी देशद्रोही थे?

Source link