योगी सरकार के मंत्री को भंडार अधिकारी शकील अहमद ने दी धमकी, कहा- “कमलेश तिवारी की तरह होगा तुम्हारा हश्र”

“ज्यादा भंडार व माल की जाँच के चक्कर में पड़ोगे तो तुम्हें जान से मरवा दूँगा।” उसने जाँच-पड़ताल बंद करने की धमकी देते हुए मंत्री से कहा कि वो उसका कुछ भी नहीं उखाड़ पाएँगे। निरीक्षण में भंडार में 56 करोड़ रुपए के घोटाले की बात सामने आई है।

460
योगी सरकार के मंत्री को भंडार अधिकारी शकील अहमद ने दी धमकी, कहा- कमलेश तिवारी की तरह होगा तुम्हारा हश्र
योगी सरकार के मंत्री को भंडार अधिकारी शकील अहमद ने दी धमकी, कहा- कमलेश तिवारी की तरह होगा तुम्हारा हश्र

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में योगी सरकार में दर्जा प्राप्त मंत्री राजेश्वर सिंह को धमकी देने का जान से मारने की धमकी मिली है। हैरत की बात ये है कि ये धमकी किसी और ने नहीं, बल्कि सहायक भंडारण अधिकारी द्वारा दी गई है। राजेश्वर सिंह को हिन्दू नेता कमलेश तिवारी की तरह हश्र भुगतने की धमकी दी गई है। जिसके चलते पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया है। जिसके बाद दर्जा प्राप्त मंत्री ने बख्शी का तालाब थाने में सहायक भंडारण अधिकारी शकील अहमद के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। जांच के बाद शकील की जल्द गिरफ्तारी की जाएगी। निरीक्षण में भंडार में 56 करोड़ रुपए के घोटाले की बात सामने आई। इस पर बीज विकास निगम के सहायक भंडार अधिकारी शकील अहमद ने मंत्री राजेश्वर सिंह को धमकाया कि जाँच-पड़ताल बंद करो, वरना कमलेश तिवारी जैसा हश्र होगा।

बख्शी का तालाब थाने में मंत्री राजेश्वर सिंह ने शकील अहमद के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया है। ये घटना शनिवार (सितम्बर 19, 2020) की है, जब मंत्री बीकेटी क्षेत्र में स्थित बीज निगम के गोदाम का निरीक्षण करने पहुँचे हुए थे। राजेश्वर सिंह का कहना है कि जब से उन्हें जिम्मेदारी मिली है, तब से वो लगातार निरीक्षण के लिए आते हैं। इसी क्रम में वो बीकेटी संयंत्र में भी गए थे। शकील अहमद वहाँ 23 सालों से तैनात हैं।

मंत्री ने बताया कि निरीक्षण के दौरान उन्होंने सहायक भण्डारण अधिकारी शकील अहमद को गोदाम से अनुपस्थित पाया। परियोजना अधिकारी एके राव ने 8 बार फोन कर के शकील अहमद से बात की और उन्हें उपस्थित होने को कहा। मंत्री ढाई घंटे तक वहाँ रहे लेकिन शकील अहमद लगातार बहानेबाजी करते रहे। वो कभी खुद के ऑफिस में होने तो कभी रास्ते में होने की बात कर रहे थे। बाद में उन्होंने गाड़ी पंक्चर होने का बहाना बनाया।

इसके बाद मंत्री राजेश्वर सिंह ने खुद शकील अहमद से बात की। उन्होंने आरोप लगाया कि उक्त अधिकारी फोन पर ही उनके साथ गाली-गलौज पर उतर आया। उसने धमकाते हुए कहा, “ज्यादा भंडार व माल की जाँच के चक्कर में पड़ोगे तो तुम्हें जान से मरवा दूँगा।” उसने जाँच-पड़ताल बंद करने की धमकी देते हुए मंत्री से कहा कि वो उसका कुछ भी नहीं उखाड़ पाएँगे।

इसके बाद उसने धमकाया कि राजेश्वर सिंह का वही हश्र होगा, जो लखनऊ में कमलेश तिवारी का हुआ था। मंत्री ने जानकारी दी है कि अभी तक के निरीक्षण में भंडार में 56 करोड़ रुपए के घोटाले की बात सामने आई है। शकील अहमद के खिलाफ आईपीसी की धारा 504, 506 और 507 के तहत मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया है।

बीकेटी थाने की पुलिस का कहना है कि जाँच के बाद उसकी गिरफ्तारी हो सकती है। ‘सुदर्शन न्यूज’ ने इसे अपने अभियान से जोड़ कर देखते हुए जानकारी दी कि इसकी फाइल सीएम योगी के पास भेज दी गई है और इस मामले में 2 अधिकारी निलंबित हुए हैं।

जून 2020 में इसी तरह से जब पत्रकार अमीश देवगन ने अपने शो में ख्वाजा गरीब नवाज के लिए अनजाने में ‘आक्रांता’ शब्द का प्रयोग कर दिया था तो इसके बाद उन्हें सोशल मीडिया पे असामाजिक तत्वों द्वारा हिंदूवादी नेता का हश्र याद दिलाकर बताया जा रहा था कि पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ बोलकर एक गलती कमलेश तिवारी ने भी की थी। इससे पहले भी कई अन्य लोगों को कमलेश तिवारी का नाम लेकर धमकाया जा चुका है।