आम के पेड़ पर बना डाला बिना सीमेंट और कंकरिट के चार मंजिला सपनों का आशियाना

200
आम के पेड़ पर बना डाला बिना सीमेंट और कंकरिट के चार मंजिला सपनों का आशियाना
आम के पेड़ पर बना डाला बिना सीमेंट और कंकरिट के चार मंजिला सपनों का आशियाना

आम के पेड़ पर सपनों का आशियाना, जी हाँ, यह सुनने के बाद आपको यकीन नहीं होगा लेकिन यह सच है. वैसे जिनके बारे में हम बात कर रहे हैं वह शख्स आईआईटी ग्रेजुएट है और उदयपुर में बतौर सिविल इंजीनियर के पद पर कार्य करते है. उनका नाम K.P SINGH है जो पिछले 18 सालों से अपने इस घर को बना रहे है. वैसे उन्हें अपने इस घर को बनाने में इतने साल का समय इसलिए लगा क्योंकि उनका घर साधारण जगह पर नहीं बल्कि एक पेड़ पर बना है और यह चार मंजिला घर है.

आजकल इंसान घर बनाने के चक्कर में पेड़ काटते जा रहा है लेकिन आज हम एक ऐसे युवक के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने इससे हटकर किया है. जी हाँ, आज हम जिनके बारे में बताने जा रहे हैं उन्होंने एक ऐसे घर का निर्माण किया जो पेड़ पर बना है.

K.P SINGH का मानना है कि इस घर के कारण पेड को कोई नुकसान नहीं पहुचे इस वजह से उन्होंने अपने घर को ऐसे बनाया कि पेड़ को नुकसान भी न पहुंचे और वह आसानी से घर में रह सके.

वैसे उनके घर में उनके कमरों के अंदर से पेड़ की टाहनियां निकली हुई है लेकिन इस बात का उन्हें बिलकुल भी अफ़सोस नहीं है. वैसे के.पी ने इस घर को साल 2000 में बनाया था और उसके बाद से वह अपने इस घर में समय बिता रहे हैं. अब अगर घर की बात करें तो इसमे सब कुछ है. इसमें ऊपर जाने के सीढ़ियों से लेकर रहने के लिए कमरे, खाना बनाने के लिए किचन और नहाने धोने के लिए बाथरुम इत्यादि सब है. अब बात करें पेड़ के बारे में तो यह पेड़ 87 साल पुराना है.

केपी सिंह के सपनों का महल अब पूरे देश में प्रसिद्ध हो चुका है. ये लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज हो चुका है और अब जल्द ही गिनिज बुक ऑफ रिकॉर्ड में भी इसे शामिल किया जा सकता है. ट्री हाउस को देखने के लिए रोज बड़ी संख्या में लोग आते हैं.