Modi-Shah क्लीन चिट पर घमासान : नाराज चुनाव आयुक्त लवासा ने बैठक में शामिल होने से किया इनकार

26

नई दिल्ली ।चुनाव आयुक्त अशोक लवासा ने चुनाव आयोग की मीटिंग में शामिल होने से साफ मना कर दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह को आदर्श आचार संहिता और भारत निर्वाचन आयोग के कानूनों के तहत दी जाने वाली क्लीन चिट्स से नाराज चुनाव आयुक्त अशोक लवासा ने खुद को आयोग की बैठकों से दूर कर लिया है। लवासा ने दावा किया है कि अल्पमत के फैसलों का कोई रिकॉर्ड नहीं हो रहा है। उन्होंने कहा है कि वह बैठक में तभी शामिल होंगे जब आयोग के आदेश में अल्पमत के भी फैसले का जिक्र हो।

उच्च पदस्थ सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार चुनाव आयुक्त अशोक लवासा ने मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा को पत्र भी लिखा है की चुनाव आचार संहिता के मामले में भी असहमति टिप्पणी/अल्पमत टिप्पणी को रिकोर्ड नहीं किया जा रहा इसलिये वो मजबूरन बैठक में हिस्सा न लेने के लिये मजबूर हैं। हालांकि चुनाव आयुक्त अशोक लवासा चुनाव आयोग की बाकी सभी बैठकों में हिस्सा ले रहे हैं। चुनाव आयुक्त अशोक लवासा ने चुनाव आयोग के अन्दर (मुख्य चुनाव आयुक्त और दूसरे चुनाव आयुक्त के समक्ष) ज़ोर देकर मांग की है की आचार संहिता उल्लंघन मामले में भी अल्पमत के पक्ष की रिकार्डिग हो।

चुनाव आयोग के अधिकारी ने कहा- चुनाव आयोग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया की आचार संहिता के मामले में कोई भी पुराना उदाहरण नहीं मिलता जिसमें चुनाव आयोग में असहमति की स्थिति में अल्पमत टिप्पणी की रिकार्डिग हो, सिर्फ चुनाव आयोग में अर्धन्यायिक मामलों में अल्पमत और बहुमत टिप्पणी की लिखित रिकार्डिग होती है। चुनाव आयुक्त अशोक लवासा प्रधानमंत्री और बीजेपी अध्यक्ष से जुडे आचार संहिता के मामलों में चुनाव आयोग के बहुमत के फैसले के खिलाफ अपनी असहमति जता चुके हैं। फिलहाल आयोग के सामने प्रधानमंत्री का राजीव गांधी को भ्रष्टाचारी नंबर 1 बोलने के अलावा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से जुडे चुनाव आचार संहिता के मामले लंबित हैं।

Source link