Demo pic.

लखनऊ के बाजारखाला में कुछ लड़कों द्वारा तिरंगा झंडा जलाते हुए टिक-टॉक (TikTok) वीडियो बनाने का मामला सामने आया है। बताया गया है कि ये चारों रविवार (जून 21, 2020) की देर शाम वीडियो बनाते हुए देश के राष्ट्रीय ध्वज को जला रहे थे और जब लोगों ने इसका विरोध किया तो उन्होंने उलटा लोगों पर ही हमला कर दिया।

चारों आरोपित तिरंगा झंडा जलाने के साथ-साथ देश विरोधी नारेबाजी भी कर रहे थे। वहाँ से गुजर रहे दो सजग नागरिकों ने इस कृत्य का विरोध किया। इस पर चारों उग्र हो गए और उन्होंने विरोध करने वाले दोनों युवकों पर हमला बोल दिया। जब वहाँ से गुजर रहे कुछ अन्य लोगों ने इस घटना को देखा तो उन्होंने बीच-बचाव किया।

इस दौरान लोगों ने एक आरोपित को खदेड़ कर पकड़ लिया। उसे पुलिस के हवाले कर दिया गया। चूँकि आरोपित नाबालिग है, उसे बाल सुधार गृह में भेज दिया गया है। उसके तीन साथी भागने में कामयाब रहे हैं। वो अभी भी फरार हैं, जिनकी तलाश पुलिस कर रही है।

‘हिंदुस्तान’ की ख़बर के अनुसार, बाजारखाला इंस्पेक्टर ने जानकारी देते हुए बताया कि राजाजीपुरम निवासी रविकांत शाम को टिकैत राय तालाब कॉलोनी के अंदर साइकलिंग कर रहे थे। इसी दौरान उन्होंने देखा कि चार लड़के राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे झंडे को जला रहे हैं।

रविकांत ने इन लोगों को ऐसा करने से मना किया तो वे लोग मारपीट पर उतर आए। इसी समय रूपेश गुप्ता नामक सजग नागरिक रविकांत की मदद के लिए आगे आए लेकिन बदमाशों ने उन पर भी हमला बोल दिया।

फिर कुछ और लोगों की मदद से एक आरोपित को पकड़ कर पुलिस के हवाले किया गया। आरोपित की उम्र 15 साल है। सभी बदमाशों का इरादा था कि वो टिक-टॉक पर तिरंगा झंडा जलाते हुए वीडियो बना कर वायरल करें।

इस घटना के बाद कई स्थानीय नेता आरोपित को छुड़ाने थाने भी पहुँचे। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार कुछ स्थानीय लोगों ने बताया कि आरोपित समाजवादी पार्टी के एक पूर्व नेता का भतीजा है। लेकिन, ऑपइंडिया से बातचीत में पुलिस ने इस बात को नकार दिया। रविकांत की शिकायत के बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है।

आरोपित के पकड़े जाने के बाद इलाक़े में तनाव भड़क गया था क्योंकि मामला दो समुदायों के बीच का बना दिया गया था। इसको ध्यान में रखते हुए पुलिस ने सांप्रदायिक तनाव रोकने के लिए व्यवस्था की। वहाँ अतिरिक्त पुलिस बल की तैनाती करनी पड़ी। ‘न्यूज़ 18’ के अनुसार, इंस्पेक्टर बृजेन्द्र सिंह ने बताया कि तीनों फरार आरोपितों के बारे में पुलिस को जानकारी मिल गई है और उनकी तलाश तेज़ कर दी गई है।

पुलिस ने आईपीसी की धारा 124(A), 153(A), 504, 505(1)(B)(2), 352, 325, 506 और राष्ट्र गौरव अपमान निवारण अधिनियम 2 के तहत मामला दर्ज किया है। काफ़ी तादाद में थाने पहुँचे समुदाय विशेष के लोगों ने पुलिस पर दबाव बनाया कि वो आरोपित को छोड़ दें। उक्त नाबालिग आरोपित ने ही पूछताछ के दौरान पुलिस को अपने तीन अन्य साथियों के बारे में सूचना दी।