अमृत है मेथी चाय, जाने इससे होने वाले फायदे !
अमृत है मेथी चाय, जाने इससे होने वाले फायदे !

यह तो हम सभी जानते है की स्वस्थ फेफड़े हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली का एक रक्षा तंत्र हैं। वहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के महानिदेशक डॉ, टेड्रोस एडनॉम के आधिकारिक रिपोर्ट की मानें, तो फेफड़े की खराब स्थिति और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों को कोरोनावायरस संक्रमण के लिए अतिसंवेदनशील होने की संभावना है।

इसलिए जरूरी है कि हम अच्छी स्वच्छता बनाए रखने के अलावा, ये सुनिश्चित करें कि हमारे फेफड़े स्वस्थ रहें, ताकि वो किसी भी संक्रमण से बच सके। इन तमाम चीजों को देखते हुए होलिस्टिक वेलनेस कोच और न्यूट्रिशनिस्ट ल्यूक कॉउटिन्हो ने हाल ही में इंस्टाग्राम पर बताया कि फेफड़ों को स्वस्थ रखने के लिए सबसे पहले बलगम को कम करना या इसे बनने न देना क्यों जरूरी है।

न्यूट्रिशनिस्ट ल्यूक कॉउटिन्हो का मानें, तो “हमारे शरीर में प्रतिरक्षा प्रणाली का एक रक्षा तंत्र है। ल्यूक कॉउटिन्हो कहते हैं कि हमारे शरीर को बलगम की जरूरत होती है, क्योंकि यह रक्षा तंत्र के रूप में काम करता है। जब हम कुछ बैक्टीरिया या वायरस को सांस लेते हैं, तो यह फेफड़ों में बलगम द्वारा फंस जाता है, जो इसे हमारे शरीर में जाने से रोकता है।

इस बलगम को बाद में छींकने, खांसी या नाक बहने के माध्यम से शरीर द्वारा समाप्त कर दिया जाता है। समस्या तब होती है जब आपके फेफड़ों में बहुत अधिक बलगम बनता है। सीओपीडी, अस्थमा, ब्रोंकाइटिस वाले लोगों के फेफड़ों में अधिक बलगम होता है। ऐसे में आपको कुछ चीजें बता सकता हूं, जो आपको बलगम को खत्म करने या साफ करने में मदद करेंगी।

मेथी के बीज का एक बड़ा चमचा लें और उन्हें 4-5 मिनट के लिए पानी में उबाल लें, तनाव और इसे गर्म पीना। आप एक दिन में एक-दो कप ले सकते हैं। यह बलगम को तोड़ता है, जिसे बाद में आपका शरीर बाहर निकाल देता है।जमा बलगम आपके शरीर को रोगाणु, रोगजनकों, बैक्टीरिया या वायरल के लिए एक प्रजनन भूमि बनाता है। जितनी जल्दी हो सके बलगम को तोड़ना आपके फेफड़ों को स्वस्थ रखने का सबसे अच्छा तरीका है। इसके साथ ही ल्यूक कॉउटिन्हो ने मेथी दाने और काली मिर्च के इस्तेमाल से चाय या काढ़ा बनान भी बताया।

मेथी दाने और काली मिर्च से बना चाय या काढ़ा
एक चम्मच मेथी दाना लें। इसे पानी में उबालें और मिश्रण को छान लें। काली मिर्च में एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-ऑक्सीडेंट की मात्रा अधिक होती है और दर्द को कम करने और कफ और बलगम को तोड़ने में मदद करता है। बेहतर परिणाम के लिए आप इसे एक गिलास सुबह और एक गिलास शाम को पी सकते हैं।