ज्योतिषशास्त्र में इंसान के सोने के ये 12 नियम खोलते है जिंदगी का हर राज़
ज्योतिषशास्त्र में इंसान के सोने के ये 12 नियम खोलते है जिंदगी का हर राज़

जिंदगी जीने के लिए जिस तरह एक इंसान के लिए हवा और पानी आवश्यक होती है है उसी तरह इंसान के लिए नींद भी बहुत आवश्यक होती है। क्योकि अगर समय पर नींद न ली जाए तो कई तरह की बीमारियां हो सकती हैं। इसलिए आयुर्वेद में सभी को पर्याप्त नींद लेने की सलाह दी गई है। ज्योतिषशास्त्र में इंसान के जीवन का हर एक पहलू एक अलग राज़ खोलता है। हमारे ग्रंथों में भी सोने को लेकर कई नियम बताए गए हैं। जानिए सोने से संबंधित नियमों के बारे में….

# ग्रंथों में ललाट यानी मस्तक पर तिलक लगाकर सोना अशुभ माना गया है।

# आयुर्वेद के अनुसार, बाईं करवट लेकर सोना हेल्थ के लिये अच्छा होता है।

# दाईं करवट लेकर सोने से स्वास्थ्य संबंधी नुकसान हो सकते हैं। इसलिए ऐसा नहीं करना चाहिए।

# सीधा सोने से रीढ़ की हड्डी को नुकसान और ऊल्टा सोने से आंखें खराब हो सकती हैं।

# पूर्व दिशा की ओर सिर रखकर सोने से विद्या की प्राप्ति होती है।

# दक्षिण में सिर रखकर सोने से धन लाभ के साथ हेल्थ संबंधी फायदा होता है।

# पश्चिम की ओर सिर रखकर सोने से समस्याएं बढ़ती हैं।

# उत्तर की ओर सिर रखकर सोने से हानि होती है।

# शाम के समय कभी नहीं सोना चाहिए।

# पलंग पर बैठे-बैठे सोना नहीं चाहिए।

# घर की देहरी यानी चौखट पर सिर रखकर भी कभी नहीं सोना चाहिए।

# सूर्यास्त के एक प्रहर (लगभग 3 घंटे) के बाद ही सोना चाहिए।