दिहाड़ी मजदूर बन गया एथलीट , हासिल किया स्वर्ण पदक

26

नई दिल्ली । एक आदिवासी एथलीट इवित मुरली कुमार ने  फेडरेशन कप राष्ट्रीय सीनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप के तीसरे दिन पुरुषों के 10000 मीटर दौड़ को अपने नाम कर लिया है। इस दौड़ को जीतने के अलावा मुरली कुमार ने एशियाई चैंपियनशिप के लिए भी क्वालीफाई कर लिया है। उन्होंने इस दौड़ को 29 मिनट 21.99 सेकंड के समय के साथ पूरा करके चैंपियनशिप में दूसरा स्वर्ण पदक हासिल किया। इससे पहले कुमार ने इस टूर्नामेंट के पहले दिन पुरुषों के 5000 मीटर दौड़ को भी अपने नाम किया था।

गुजरात के डांग में सपुतारा हिल स्टेशन के पास वाले गांव में रहने वाला 22 साल के  इस एथलीट ने बताया कि वह वार्षिक परीक्षा और नए सत्र के बीच के समय में अपने घर के पास सड़क निर्माण में दिहाड़ी मजदूर के रूप में काम करता था। जिसके लिए उसे 150 रुपये दिहाड़ी मिलती था। मुरली कुमार ने बताया कि इस रकम का इस्तेमाल उसने  दौड़ने वाले जूते खरीदने में किया था।’

Source link