दुनिया के ये अजीबो-गरीब टैक्स दिमाग घुमा देंगे, चॉपस्टिक, सेक्सुअल इंटीमेसी पर और मोटापे पर टैक्स !
दुनिया के ये अजीबो-गरीब टैक्स दिमाग घुमा देंगे, चॉपस्टिक, सेक्सुअल इंटीमेसी पर और मोटापे पर टैक्स !

आम बजट (Union Budget 2020) के खास दिन हम आपको बताने जा रहे हैं दुनिया के कुछ अजीबो-गरीब टैक्स के बारे में । जिनके बारे में सुनना तो दूर की बात कल्पना कर पाना भी नामुकिन है।चॉपस्टिक और मोटापे पर टैक्स! दिमाग घुमा देंगे दुनिया के ये अजीबो-गरीब टैक्स इंग्लैंड में 17वीं शताब्दी के दौरान घरों की खिड़कियों के आधार पर टैक्स लिया जाता था।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने आज लोकसभा में मोदी सरकार 2.0 का दूसरा बजट (Union Budget 2020) पेश किया. आम बजट के खास दिन हम आपको बताने जा रहे हैं दुनिया के कुछ अजीबो-गरीब टैक्स के बारे में । जिनके बारे में सुनना तो दूर की बात कल्पना कर पाना भी नामुकिन है । जी हां किसी देश में कद्दू, पिस्ता खरीदने के लिए टैक्स देना पड़ता है तो कहीं, सेक्स करने पर लोगों को टैक्स भरना पड़ता है।

Wierd Tax System - इन देशों में अजीबो-गरीब चीजों पर लगता है टैक्स

सेक्सुअल इंटीमेसी पर टैक्स
अमेरिका में रोड आइलैंट में 1971 में आई आर्थिक तगी के कारण डेमोक्रेटिक स्टेट लेजिस्लेटर बर्नाड ग्लैडस्टोन ने एक नया बिल पेश किया था। इस बिल में राज्य में सेक्सुअल इंटरकोर्स करने वालों से 2 डॉलर टैक्स के तौर चुकाने के लिए कहा गया था। इस बिल को पास करते हुए स्पष्ट शब्दों में कहा गया था कि सेक्सुअल इंटरकोर्स के लिए किसी व्यक्ति को टैक्स देना है या नहीं यह उसकी इच्छा पर निर्भर करता है । अब जाहिर सी बात है सरकार हर किसी के घर में झांककर तो देख नहीं सकती है ।

दुनिया के ये अजीबो-गरीब टैक्स दिमाग घुमा देंगे, चॉपस्टिक, सेक्सुअल इंटीमेसी पर और मोटापे पर टैक्स !
दुनिया के ये अजीबो-गरीब टैक्स दिमाग घुमा देंगे, चॉपस्टिक, सेक्सुअल इंटीमेसी पर और मोटापे पर टैक्स !

ब्रेस्ट टैक्स का इतिहास बेहद हैरान कर देने वाला है। दक्षिण भारत के त्रावनकोर में 19वीं सदी में छोटी जाति की महिलाओं को ब्रेस्ट टैक्स देना पड़ता था। महिलाओं की ब्रेस्ट को मापकर टैक्स वसूला जाता था। नियम के अनुसार, छोटी जाति की महिलाओं को शरीर के ऊपरी अंगों को ढकने की इजाज़त नहीं थी। अगर कोई महिला अपना उपरी बदन ढकती थी तो उसे उसके लिए टैक्स भरना होता था। लेकिन नांगेली नाम की बहादूर महिला ने इस नियम के विरोध में टैक्स के रुप में अपने ब्रेस्ट काट कर कलेक्टर्स को दे दिए। नांगेली के बलिदान की वजह से इस नियम को अगले दिन ही खत्म कर दिया गया था।

दुनिया के ये अजीबो-गरीब टैक्स दिमाग घुमा देंगे, चॉपस्टिक, सेक्सुअल इंटीमेसी पर और मोटापे पर टैक्स !
दुनिया के ये अजीबो-गरीब टैक्स दिमाग घुमा देंगे, चॉपस्टिक, सेक्सुअल इंटीमेसी पर और मोटापे पर टैक्स !

यूरिन पर टैक्स
अब आप सोच रहे होगें भला कोई पेशाब करने के लिए टैक्स कैसे ले सकता है। लेकिन रोम के राजा ने यूरिन पर टैक्स लगा दिया था। यूरिन टैक्स के पैसों से बदबू आती है ऐसा कहकर राजा के बेटे टाइटस ने जमकर इसका विरोध किया था।

काजू, पिस्ता पर अतिरिक्त टैक्स
एक रिपोर्ट के मुताबिक, इंग्लैंड में काजू, पिस्ता, रोस्टेड और नमकीन पिस्ता पर 20% टैक्स वसूल किया जाता है । यह बाकि टैक्स के मुकाबले बहुत ज्यादा अजीब है। जापान में 40 से 75 साल तक के महिलाओं और पुरुषों पर मेटाबो (मेटाबोलिज्म) कानून लागू होता है। जापान में 40 से 75 साल तक के महिलाओं और पुरुषों पर मेटाबो (मेटाबोलिज्म) कानून लागू होता है ।

Image result for अजीबो-गरीब टैक्स"

द फैट टैक्स
जापान में 40 से 75 साल तक के महिलाओं और पुरुषों पर मेटाबो (मेटाबोलिज्म) कानून लागू होता है. इस कानून में इस आयु वर्ग के महिला और पुरुषों की कमर हर साल मापी जाती है ।  यदि उनकी कमर एक निश्चित आकार (पुरुषों के लिए 85 सेमी और महिलाओं के लिए 90 सेमी) से अधिक है, तो उन्हें जुर्माना भरना होता है। जापान सरकार की ओर से यह टैक्स मोटापे की बढ़ती दरों को कम करने, डायबिटीज, स्ट्रोक जैसी बीमारियों पर रोक लगाने के लिए लागू किया गया था।

दुनिया के ये अजीबो-गरीब टैक्स दिमाग घुमा देंगे, चॉपस्टिक, सेक्सुअल इंटीमेसी पर और मोटापे पर टैक्स !
दुनिया के ये अजीबो-गरीब टैक्स दिमाग घुमा देंगे, चॉपस्टिक, सेक्सुअल इंटीमेसी पर और मोटापे पर टैक्स !

चॉपस्टिक टैक्स
चीन में हर साल 45 बिलियन कपल डिस्पोजेबल चॉपस्टिक का निर्माण होता है । भारी संख्या में चॉपस्टिक का निर्माण होने के कारण चीन में लगभग 25 मिलियन पेड़ों को काटा गया. पेड़ों की संख्या बचाने और लोगों को प्रकृति के प्रति जागरूक करने के लिए चीन सरकार ने चॉपस्टिक पर एक्सट्रा टैक्स लगाना शुरू कर दिया। चीन सरकार ने डिस्पोजेबल लकड़ी के चॉपस्टिक पर 5% टैक्स लगाया। अधिकारियों का मानना है कि यह उपाय पारंपरिक लोगों के बजाय पुन: प्रयोज्य, प्लास्टिक चॉपस्टिक के साथ खाने के लिए लोगों को प्रोत्साहित करेगा।