इजरायल के प्रधानमंत्री नेतन्याहू पर भ्रष्टाचार का आरोप तय, होगी 10 साल की सजा

33
इजरायल के प्रधानमंत्री नेतन्याहू पर भ्रष्टाचार का आरोप तय, होगी 10 साल की सजा
इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू _File Photo

यरुशलम ।अटॉर्नी जनरल ने इन सभी पर गहरी समीक्षा करने के बाद 100 पेज की समीक्षा रिपोर्ट तैयार की है। टाइम्स ऑफ इजरायल के मुताबिक अगर वे घूसखोरी के मामले में दोषी ठहराए जाते हैं तो फाइन के साथ-साथ उन्हें 10 सालों की जेल की सजा भुगतनी पड़ सकती है।  इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के उपर भ्रष्टाचार, घूसखोरी, विश्वासघात और धोखाधड़ी का आरोप लगाया गया है।

अटॉर्नी जनरल ने बताया कि नेतन्याहू के उपर तीन अलग-अलग मामलों में आपराधिक गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगाया जाता है। किसी मामले में उन पर घुसखोरी का आरोप भी लगाया गया है। नेतन्याहू ने हालांकि इन सभी आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है।

प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने हालांकि इन सभी आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है। उनका कहना है कि ये सभी आरोप राजनीतिक षड़यंत्र से प्रेरित हैं जिसका उद्देश्य मुझे सत्ता से गिराना है। उन्होंने कहा कि वे इस पर आधिकारिक बयान जारी करेंगे। इजरायली प्रधानमंत्री नेतन्याहू पहले सत्तासीन प्रधानमंत्री होंगे जिनपर घूसखोरी जैसे भ्रष्टाचार का आरोप लगाया गया है।

बताया जाता है कि प्रधानमंत्री नेतन्याहू के वकीलों के द्वारा इसी साल अक्टूबर में चार दिनों की सुनवाई के दौरान उन पर कई तरह के आरोप लगाए थे, अटॉर्नी जनरल ने इन्हीं सभी पर गहन विचार करने के बाद ऐसे आरोप लगाए हैं।

वहीं अगर विश्वासघात और धोखाधड़ी के मामले में भी दोषी ठहराए जाते हैं तो उन्हें अन्य तीन सालों की सजा भुगतनी पड़ सकती है। इसी बीच नेतन्याहू की पार्टी के कार्यकर्ताओं ने यरूशलम में उनके आवास के बाहर इकट्ठे होकर उनके समर्थन में नारेबाजी शुरू कर दी है। इन

3 मामलों पर तय हुए हैं आरोप

नेतन्याहू के खिलाफ अरबपति मित्रों से सैकड़ों हजारों डॉलर की शैम्पैन और सिगार घूस के रूप में लेने, अखबार के एक प्रकाशक को लाभ दिला कर अपने पक्ष में करने और अपने प्रभाव के इस्तेमाल से एक धनी टेलीकॉम कंपनी के मालिक की समाचार वेबसाइट पर कवरेज पाने के आरोप लगे हैं।

आरोप तय होने से नेतन्याहू को इस्तीफा नहीं देना होगा लेकिन उनपर पद छोड़ने का दबाव बढ़ सकता है। नेतन्याहू ने मीडिया, पुलिस, अभियोजन और न्याय व्यवस्था के खिलाफ बोलते हुए आरोपों को उनकी छवि धूमिल करने का प्रयास बताया। नेतन्याहू को गुरुवार को बयान जारी करना था।