मुर्गा कोर्ट केस जीत गया, कोर्ट ने कहा मुर्गे को ‘अपने सुर में गाने’ का पूरा अधिकार

47
अपनी मालकिन क्रोनी के साथ मौरिस

पैरिस । मुर्गा फ्रांस का राष्ट्रीय प्रतीक  है। शहरी लोगों का कहना है कि मुर्गे के सुबह-सुबह बोलने से उनकी नींद में खलल पड़ता है। एक समय था जब मुर्गे की बांग सुनकर ही लोगों की सुबह हुआ करती थी लेकिन कई महीने से फ्रांस में मुर्गे के बोलने को लेकर बड़ी बहस चल रही थी।

आखिरकार जीत मुर्गे की ही हुई और कोर्ट ने भी कह दिया कि मुर्गे को ‘अपने सुर में गाने’ का पूरा अधिकार है। दरअसल मुर्गे के बोलने पर उसके मालिक क्रोनी के पड़ोसी को ऐतराज था और इसलिए मामला कोर्ट तक खिंच गया। केस कोर्ट में जाने के बाद यह राष्ट्रीय स्तर की बहस बन गई। मुर्गे की बांग को लेकर शहरी और ग्रामीण लोग बंट गए।

पड़ोसी ने ध्वनि प्रदूषण का भी दावा किया था। वहीं ग्रामीणों को इसपर कोई ऐतराज नहीं था। आखिरकार गुरुवार को कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया और कहा कि इस पक्षी का बोलना इसका अधिकार है।मौरिस नाम के इस मुर्गे को क्रोनी फेस्सयू ने पाल रखा था। क्रोनी के वकील ने बताया, ‘मौरिस केस जीत गया है और इसके लिए वह अपने मालिक को हर्जाने के रूप में 1000 रुपये देगा।’

क्रोनी ने कहा कि आज तक किसी ने मुर्गे के बोलने को लेकर ऐसे आपत्ति नहीं की। जब से एक दंपती छुट्टियां मनाने यहां आया है, इन्हीं को परेशानी है। लुइस बिरन और उनकी पत्नी की शिकायत थी कि मुर्गे के बोलने की वजह से सुबह-सुबह उनकी नींद खुल जाती है।कोर्ट के फैसले के बाद क्रोनी ने कहा कि यह उनकी तरह के सभी लोगों की जीत है।

वह बेहद खुश थीं। मौरिस नाम के इस मुर्गे पर छिड़ी बहस ने लाखों लोगों को एकजुट कर दिया और लोगों ने उसके समर्थन में ‘सेव मौरिस’ अभियान तक चला दिया।