गैंगरेप कर युवती को मारना चाहते थे आरोपी, पुलिस ने किया पीड़िता को अनसुना, हुई बड़ी कार्रवाई

35

औरैया में गैंगरेप पीड़िता की मौत के बाद लापरवाही बरतने वाले एसओ और चौकी इंचार्ज को निलंबित कर दिया गया है। जांच में खुलासा हुआ कि दोनों ने न सिर्फ पीड़िता की मां की तहरीर पर मुकदमा दर्ज नहीं किया, बल्कि अफसरों को भी गलत सूचना दी।

एक मोहल्ले में पड़ोस के दो युवकों ने किशोरी के साथ दुष्कर्म किया और फंदे से लटकाकर मारने का प्रयास किया। उसे सैफई स्थित रिम्स में भर्ती कराया गया था। जहां कई दिन जीवन-मौत से संघर्ष करने के बाद रविवार को उसने दम तोड़ दिया। इससे पहले पीड़िता की मां और परिजन रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए थाने और चौकी के चक्कर लगाते रहे लेकिन एसओ और चाकी इंचार्ज हीलाहवाली करते हुए अफसरों को गुमराह करते रहे।

मामला उठाया तो एसपी सुनीति ने एएसपी कमलेश दीक्षित से पूरे मामले की जांच कराई। इसके बाद किशोरी के पिता व उसके भाई-बहनों सहित कई लोगों से पूछताछ हुई।

जांच के दौरान पाया गया कि पीड़िता की मां की तहरीर पर घटना को गंभीरता से लेने के बजाय एरवाकटरा एसओ अवधेश कुमार व उमरैन चौकी इंचार्ज कालीचरण अधिकारियों को गलत सूचना देकर गुमराह करते रहे। ऐसे में एसपी सुनीति ने दोनों को सस्पेंड कर दिया। एसपी के मुताबिक आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए दो टीमें गठित की गई हैं।