सर्कुलर जारी : जींस न पहनें निचली अदालतों के कर्मचारी

17

राजधानी की जिला अदालतों में कर्मचारी अगर जींस और टी-शर्ट पहनकर आएंगे तो यह उनके लिए महंगा साबित हो सकता है। जिला जज की तरफ से सुर्कलर जारी कर सख्त हिदायत दी गई कि सभी कर्मचारी निर्धारित वस्त्र पहनकर ही अदालत में ड्यूटी पर आएं। अगर वह इस आदेश का उल्लंघन करते हैं तो उनके खिलाफ कार्रवाई होगी।

जिला एवं सत्र न्यायाधीश यशवंत कुमार की अदालत ने कोर्ट कर्मचारियों के लिए सुर्कलर जारी किया है। इसके मुताबिक, अदालतकर्मियों को ड्यूटी अवधि के दौरान फैशनेबल कपड़ों से परहेज करने के निर्देश दिए गए हैं।

प्राधिकृत अधिकारी रखेंगे नजर : जिला जज की तरफ से अदालत के अलग-अलग विभागों के प्राधिकृत अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वह अपने अधीनस्थ कर्मचारियों पर नजर रखेंगे। अगर कोई कर्मचारी नियम का उल्लंघन करता है तो प्राधिकृत अधिकारी उस कर्मचारी का नाम और उस पर की गई कार्रवाई की रिपोर्ट तैयार करेगा। यह रिपोर्ट जिला जज के पास कार्रवाई के लिए भेजी जाएगी।

न्यायिक अधिकारी भी निभाएंगे जिम्मेदारी : जिला जज ने अपने आदेश में यह भी कहा कि संबंधित अदालतों के न्यायिक अधिकारी भी अधीनस्थ कर्मचारियों के पहनावे पर ध्यान देंगे और इसकी सूचना देंगे।

क्या पहनें कर्मचारी
* पुरुष कर्मचारी: फॉर्मल शर्ट, पैंट व फॉर्मल शूज
* महिला कर्मचारी:  साड़ी, दुप्पटे के साथ सूट एवं पैंट-शर्ट

इन्हें पहनने की मनाही
सर्कुलर में अदालत के कर्मचारियों को टी-शर्ट, जींस, कैज्युअल शर्ट, जूती, स्पोर्ट्स शूज और लोफर शूज नहीं पहनने की हिदायत दी गई है।