यूपी: बर्खास्त 1400 फर्जी डिग्रीधारी शिक्षक, बढ़ सकती है संख्या

26

डॉ. भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय आगरा से बीएड की फर्जी डिग्री हासिल कर नौकरी पाए लगभग 1400 शिक्षक बर्खास्त हो चुके हैं। यह संख्या अभी और बढ़ सकती है। बेसिक शिक्षा विभाग के आधा दर्जन से ज्यादा बार सूचना मांगने पर भी कई जिलों ने अभी तक बर्खास्त शिक्षकों की सूची नहीं भेजी है।

विभागीय निदेशक सर्वेन्द्र विक्रम बहादुर सिंह ने इस पर नाराजगी जाहिर करते हुए सभी जिलों को पत्र लिखकर तत्काल पूरी सूची बेसिक शिक्षा परिषद को भेजने के निर्देश दिए हैं। वहीं कई जिले ऐसे भी हैं जिनकी सूची स्पष्ट नहीं है यानी शिक्षकों के नाम या पते पढ़ने में नहीं आ रहे हैं। ऐसे जिलों को भी अपनी स्पष्ट सूची जल्द ही भेजनी है। अक्तूबर 2017 में बेसिक शिक्षा विभाग ने सभी जिलों को ऐसे परीक्षार्थियों की सीडी भेजते हुए इन्हें बर्खास्त करने के आदेश दिए थे।  इस मामले का खुलासा हुए लगभग दो वर्ष बीत रहा है, लेकिन विभाग की कार्रवाई पूरी नहीं हो पाई है। अब भी सभी जिलों ने अपना ब्यौरा नहीं भेजा है। इसमें कई तरह की दिक्कतें भी आ रही हैं। कई जिलों से शिकायतें आई हैं कि अम्बेडकर विवि डिग्री के सत्यापन में हीलाहवाली बरत रहा है और सूचनाएं नहीं दे रहा है।

बीएड की 4570 डिग्री फर्जी मिली थी
डॉ. भीमराव अम्बेडकर विवि से 2004-05 में बीएड किए हुए विद्यार्थियों में से 4570 की डिग्री फर्जी पाई गई थी। विशेष अनुसंधान दल (एसआईटी) ने अपनी जांच में पाया था कि विश्वविद्यालय के टेबुलेशन चार्ट में 3517 विद्यार्थी ज्यादा थे। टेबुलेशन चार्ट में 12472 छात्रों का परिणाम दर्ज था, जबकि प्रवेश 8030 विद्यार्थियों ने लिया था। इसी तरह 1053 छात्रों की अंकतालिका से छेड़छाड़ की गई थी।