ये अजीबोगरीब गमले लगाएंगे आपके घर की खूबसूरती मे चार चांद

43

पुराने हो चुके जूतों से लेकर अंडे की ट्रे तक। प्लास्टिक की बोतल से लेकर कैन तक… पुरानी और बेकार हो चुकी चीजों को गमलों की शक्ल देकर उनमें छोटे-छोटे पौधे लगाए जा सकते हैं। इससे पुरानी चीजों का इस्तेमाल तो होगा ही, घर के लुक में भी बदलाव आएगा।

काश, घर के आसपास एक गार्डन होता! दरवाजों, खिड़कियों या बालकनी, हर तरफ हरियाली की छटा होती। आपके इन सारे सवालों का जवाब है इन्डोर गार्डनिंग यानी घर के अंदर की जाने वाली बागवानी। घर के अंदर लगने वाले कई तरह के ऐसे सदाबहार पौधे हैं, जो घर में हरियाली का एहसास कराते हैं और वातावरण को भी स्वच्छ रखने में मदद करते हैं। लेकिन इन पौधों के लिए ऐसे प्लांटर्स यानी गमले भी चाहिए, जो कूल होने के साथ थोड़ा फैशनेबल भी दिखते हों, जिन्हें देखते ही लोग बोलें, ‘वाओ’ क्या इंतजाम है!

यूं तो बाजार में कई तरह के डिजाइनर गमले हैं, लेकिन थोड़ी-सी क्रिएटिविटी दिखाकर आप घर की कुछ पुरानी चीजों को ही गमले के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं। इन गमलों में फाइकस बोन्साई और कैक्टाई जैसे सदाहार पौधे लगाए जा सकते हैं।

पारंपरिक गमलों से कुछ हटकर
अगर पिछले कुछ सालों की बात करें तो इन्डोर प्लांट्स का बाजार काफी बढ़ा है। घर हो या ऑफिस, अब आंतरिक साज-सज्जा में हरियाली को भी खास स्पेस मिलने लगा है। इन्डोर गार्डनिंग को लोग खूब पसंद कर रहे हैं। इसके लिए खास योजना भी बनाई जा रही है। पौधों के चयन को लेकर ही नहीं, गमलों के चयन में भी लोग अपनी रुचि दिखा रहे हैं। अब ऐसे गमलों की मांग ज्यादा है, जो देखने में फैशनेबल और कूल हों।

इन्डोर प्लांटर्स यानी गमलों की लोकप्रियता का अंदाजा ‘दि गार्जियन’ में प्रकाशित उस रिपोर्ट से लगाया जा सकता है, जिसमें कहा गया है कि इन्डोर प्लांट्स बेचने वाली वेबसाइट्स पांच मिलियन डॉलर तक का सालाना राजस्व कमा रही हैं यानी 35 करोड़ रुपये। रिपोर्ट से स्पष्ट है कि अब लोगों की रुचि इन्डोर गार्डनिंग में बढ़ रही है। यही नहीं, इन्डोर प्लांट्स के लिए डिजाइनर गमलों की भी मांग है। अगर आप ज्यादा खर्च करने के मूड में नहीं हैं तो घर की बेकार चीजों से गमले बनाना आपके लिए आसान और किफायती भी रहेगा। आर्किटेक्ट आशीष शाह का कहना है, ‘आप अपनी कल्पना से पुराने कपड़ों, खिलौनों या प्लास्टिक की बोतलों को गमले में बदल सकते हैं।

उदाहरण के लिए, एक मजबूत रस्सी लेकर उसे किसी जगह पर बांधें और टेक्सचर देने के लिए उसके ऊपर पेंट स्प्रे करें। पेंट की वजह से रस्सी थोड़ी सख्त हो जाएगी और फिर आप इसे कोई आकार देकर खिड़की या बालकनी में टांग दें। अपने पौधों को गमले सहित यहां लटका दें। घर के किसी हिस्से को यूरोपियन लुक देने के लिए इस तरह के पौधों को कहीं भी हैंग (टांगा) किया जा सकता है।’ जब कभी घर की साज-सज्जा में हरियाली को शामिल करने के बारे में सोचें तो हमेशा कुछ अलग करने की सोचें। इन्डोर प्लांट्स को रखने के लिए पुराने कार्ट या बेंच का उपयोग करें। डेकोर एक्सपर्ट नताशा जैन की सलाह है कि लिविंग रूम में रखी बड़ी कुर्सी के बगल में एक बड़ा-सा गमला रखें, जिसमें कोई खूबसूरत सा पौधा लगा हो। यह आपको हमेशा तरोताजा महसूस कराता रहेगा।’

आपको भी पसंद आएगी जुगाड़ की ये गार्डनिंग
बैग, पुरानी बोतलें या टिन कैन्स
घर की पुरानी चीजों का इस्तेमाल करके तरह-तरह के खूबसूरत गमले बनाए जा सकते हैं, जैसे पुरानी कांच की बोतलें, फिश बाउल, टिन के डिब्बे और प्लास्टिक के कंटेनर आदि। इन चीजों को गमले की शक्ल में ढाल देना एक रोचक आइडिया है। कुछ अलग लुक देने के लिए बस उन्हें स्प्रे पेंट से कलर कर लें। गोल्डन या सिल्वर कलर सबसे अच्छा रहेगा। फिर इसमें कोई पौधा लगाएं। इसी तरह एनर्जी ड्रिंक वाले कैन्स को रस्सी से बांधकर दीवार से लटकाया जा सकता है और इनमें मिट्टी डालकर कुछ हब्र्स उगाए जा सकते हैं। पुराने बैग से भी एक वर्टिकल गार्डन बनाया जा सकता है।

कपड़े का सामान
पुरानी टोपियों से लेकर पर्स तक। टीशर्ट से लेकर जीन्स तक। पुराने और बेकार हो चुके कपड़ों से भी अलग-अलग तरह के अनोखे गमले बनाए जा सकते हैं, जैसे हैट, नेक टाई और पर्स का उपयोग दीवार पर लटकने वाले प्लांटर्स के तौर पर किया जा सकता है। और तो और जूते की एक पुरानी जोड़ी भी गमले का बेहतर विकल्प साबित हो सकती है। ये ऑफबीट प्लांटर्स हर किसी का ध्यान अपनी ओर खींच सकते हैं। वैसे पुरानी चीजों की रीसाइकलिंग का यह तरीका बढ़िया ही है।

अंडे के ट्रे
अंडे के खांचे यानी ट्रे, जिसमें अंडे रखे होते हैं। इस्तेमाल के बाद अकसर इन खांचों को हम सब फेंक ही देते हैं। लेकिन अंडे के इन खांचों का उपयोग भी प्लांटर्स के रूप में किया जा सकता है। हब्र्स या कैक्टाई के लिए ये अच्छे प्लांटर साबित हो सकते हैं। यही नहीं, अंडे के खाली शेल यानी खोल भी पौधों के लिए पोषण का काम कर सकते हैं। इन्हें कूटकर मिट्टी के साथ गमले में डालें। ये पौधे को जरूरी पोषक तत्व प्रदान करते हैं। अंडे के शेल को भी पेंट करके प्लांटर के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

पुराने खिलौने
बच्चों के पुराने खिलौनों को कबाड़ में देने के अलावा और कोई विकल्प नजर नहीं आता! लेकिन क्या आपने कभी यह सोचा है कि आप उन खिलौनों को इन्डोर प्लांटर्स के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। बस यह सुनिश्चित कर लें कि खिलौने में मिट्टी भरने के लिए पर्याप्त जगह हो, ताकि उसे प्लांटर यानी गमले के रूप में परिवर्तित किया जा सके। तभी तो आप आसानी से इसके अंदर पौधे को लगा सकेंगे। आपके घर में ऐसे प्लांटर बेहद खूबसूरत लगेंगे।