विधानसभा में सदस्यों ने टैंक की सफाई के समय मौतों पर जतायी चिंता

18

लखनऊ। नाली और सेप्टिक टैंक की सफाई का काम करते वक्त सफाईकर्मियों की मौत पर उत्तर प्रदेश विधानसभा में बुधवार को गहरी चिन्ता व्यक्त की गयी। बसपा की सुषमा पटेल ने प्रश्नकाल के दौरान यह मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि सरकार के पास दो साल में सीवर और सैप्टिक टैंक की सफाई के दौरान लगभग 25 लोगों के मरने की सूचना है। उन्होंने कहा,‘‘लगभग का अर्थ यह हुआ कि सरकार के पास कोई प्रामाणिक आंकडा ही नहीं है। उन्होंने मृतकों के परिजन के लिए मुआवजे की मांग करते हुए सरकार से सवाल किया कि क्या वह प्रदेश के 17 नगर निगमों में दो साल में 25 लोगों की मौत के आंकडों की पुन: जांच कराएगी।

सुषमा पटेल ने ये सवाल भी किया कि क्या सेप्टिक टैंक की सफाई करते समय सफाईकर्मियों को मास्क, दस्ताने व अन्य सुरक्षा उपकरण उपलब्ध कराये जाते हैं। इस पर नगर विकास मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने कहा,‘‘ ठेकेदार अकसर सफाईकर्मियों को कहीं बाहर से ले आते हैं, जो अकुशल होते हैं। ऐसे में उनकी पहचान करना मुश्किल होता है। इस वजह से मुआवजा राशि नहीं मिल सकी है। जो 25 लोगों के कानूनी वारिस हैं, उन्हें निश्चित रूप से :मुआवजा: दिया जाएगा। कोई हीला हवाली नहीं की जाएगी।’’ उन्होंने कहा,  हम रखरखाव की व्यवस्था पूरी तरह बदल रहे हैं। जो कुशल होंगे, वही काम करेंगे और हम मशीन के माध्यम से काम कराएंगे।