मंत्री फिरहाद हकीम की स्कूटर से CM ममता बनर्जी पहुंची मुख्यमंत्री दफ्तर, अनूठा विरोध

34
मंत्री फिरहाद हकीम चला रहे थे स्कूटर, पीछे बैठी थीं सीएम ममता बनर्जी
मंत्री फिरहाद हकीम चला रहे थे स्कूटर, पीछे बैठी थीं सीएम ममता बनर्जी

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के स्कूटर पर दफ्तर जाने का पूरा कार्यक्रम सोशल मीडिया पर लाइव प्रसारित किया गया। ममता बनर्जी ने पेट्रील-डीजल की बढ़ती कीमतों का अनूठे ढंग से विरोध किया है । उन्होंने बढ़ते ईंधन के दामों का विरोध करने का ये अनूठा तरीका निकाला था। ममता बनर्जी आज  कार की सवारी छोड़कर स्कूटर से मुख्यमंत्री दफ्तर पहुंची। उनका स्कूटर मंत्री फिरहाद हकीम चला रहे थे, जबकि सीएम उनके पीछे बैठी थीं ।

ये साधारण स्कूटर नहीं बल्कि बैटरी से चलने वाला ग्रीन स्कूटर था। इस दौरान हेलमेट पहनीं ममता बनर्जी मुंह पर मास्क लगाई हुई थीं और गले में एक पट्टा लटका रखा था। उस पट्टे पर अंग्रेजी में लिखा था, “आपके मुंह में क्या है, पेट्रोल की कीमत बढ़ाना, डीजल की कीमत बढ़ाना और गैस की कीमत बढ़ाना”। चुनावी राज्य पश्चिम बंगाल में भी इस महीने पेट्रोल 100 रुपये प्रति लीटर को पार कर गया।

इससे पहले तेजस्वी यादव ट्रैक्टर चलाकर विधानसभा पहुंचे थे । किसानों के साथ एकजुटता दिखाते हुए बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने विरोध प्रदर्शन का अनोखा तरीका निकाला था।  उनके साथ कुछ लोग ट्रैक्टर पर सवार थे। इस दौरान तेजस्वी ने कहा था कि सरकार किसानों की बात नहीं सुन रही है।

ये सरकार का तानाशाही रवैया है। सरकार किसान विरोधी काम कर रही है। ईंधन की कीमत बढ़ाना भी किसान पर हमला है। पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ रहे हैं। आम जनता परेशान है लेकिन सरकार चुप बैठी है।

बीजेपी लगातार चुनाव प्रचार में लगी है। पश्चिम बंगाल में चुनावों की तारीखों का ऐलान जल्द होने की संभावना है।  वहीं ममता भी सरकार को महंगाई, पेट्रोल और किसानों के मुद्दे पर लगातार घेर रही हैं । बीजेपी ने बंगाल में आज से सोनार बांग्ला अभियान की भी शुरुआत की है ।

जिसके तहत पार्टी बंगाल में लोगों से सुझाव मांगेगी। इसके तहत करीब 2 करोड़ सुझाव लिए जाएंगे। पूरे बंगाल में लगभग 30,000 सुझाव पेटिकाएं लगाई जाएंगी। 294 विधानसभा क्षेत्रों में लगभग 100 पेटिकाएं लगाई जाएंगी. ये अभियान 3 मार्च से 20 मार्च तक चलेगा।

Please follow and like us: