बोलेरो पर कॉन्ग्रेस MLA वाजिब अली की फोटो और स्टीकर लगा कर गोमांस की जा रही थी तस्करी

168
बोलेरो पर कॉन्ग्रेस एमएलए वाजिब अली की फोटो और स्टीकर लगा कर गोमांस की जा रही थी तस्करी

भरतपुर जिले के नगर विधानसभा क्षेत्र के बेरू गांव में गौ रक्षा दल, बजरंग दल व बेरू ग्रामवासियों ने एक गौ मांस से भरी बोलेरो पकड़ी हैं,जिस पर नगर विधायक वाजिब अली की फोटो लगी हुई हैं।और गाड़ी भी विधायक की बताई जा रही हैं।

राजस्थान में विधायक के नाम पर पिछले दो वर्षों से गोमांस की तस्करी की जा रही थी। इस मामले में पुलिस ने 5 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। गाड़ी जिसके नाम पर है, पुलिस ने उसका भी विवरण और पता निकाल लेने का दावा किया है। लेकिन, अब तक पुलिस ने किसी की गिरफ्तारी नहीं की है।

गोमांस से भरी 4 बोरियाँ तब पकड़ी गईं, जब वो बर्रू गाँव से पालकी की तरफ जा रही थी।राजस्थान के भरतपुर से गोमांस तस्करी का मामला सामने आया है। ये घटना सिकरी के बर्रू गाँव में हुई, जहाँ बुधवार (जनवरी 20, 2021) की रात को गोमांस की तस्करी के लिए प्रयोग की जा रही बोलेरो गाड़ी पकड़ी गई।

इस गाड़ी पर नगर विधायक वाजिब अली के नाम और उनके चुनावी स्टिकर्स चिपके थे। वाजिब अली कॉन्ग्रेस के विधायक हैं।रास्ते में गाड़ी एक व्यक्ति के मकान से टकरा गई, टक्कर की आवाज सुन कर बड़ी संख्या में ग्रामीण मौके पर पहुँच गए थे।

लोगों का कहना है कि इस गाड़ी को उन्होंने इससे पहले भी कई मौकों पर इधर से गुजरते हुए देखा है। गाड़ी के मालिक का नाम साहबदीन है, जो बिलोड का रहने वाला है। साहबदीन ने दावा किया है कि उसने इस गाड़ी को पालकी के मुरसलीम को बेच दी थी। पुलिस इस मामले की जाँच कर रही है।

इस मामले में रेवती शर्मा के बेटे संजय ने एफआईआर दर्ज कराई है। इसमें हनीफ के बेटे, खुर्शीद के बेटे मुरसलीम और सलीम को नामजद बनाया गया है।

उधर विधायक वाजिब अली ने कहा है कि उक्त बोलेरो गाड़ी से उनका कोई सम्बन्ध नहीं है। उन्होंने दावा किया कि ये उन्हें बदनाम करने के लिए कोई बड़ी साजिश हो सकती है। विधायक ने पुलिस में भी लिखित शिकायत देकर गाड़ी मालिक के खिलाफ कार्रवाई करने का अनुरोध किया है। वाजिब अली बसपा के उन 6 विधायकों में शामिल थे, जिन्होंने पाला बदल कर कॉन्ग्रेस का दामन थाम लिया था। वो राज्य की अल्पसंख्यक समिति के सदस्य भी हैं।

राजस्थान में पिछले वर्ष भी गोमांस तस्करी और गोहत्या के कई मामले सामने आए थे। जून 2020 में गो तस्करों ने एक गौशाला (गाय-आश्रय) पर हमला कर महंत की पिटाई की थी और तीन गायों को लेकर भाग गए थे। इससे पहले अलवर जिले के तिजारा क्षेत्र में, जो मेवात के अंतर्गत आता है, पुलिस ने अरंडका गाँव में निषाद नाम के एक व्यक्ति के घर पर छापा मारा था और गायों का माँस और खाल बरामद की थी।

Please follow and like us: