”मुर्दा” खुद के अंतिम संस्कार के लिए पैसा निकालने पहुंचा बैंक, बैंककर्मी भी रह गए हैरान

181
''मुर्दा'' खुद के अंतिम संस्कार के लिए पैसा निकालने पहुंचा बैंक, बैंककर्मी भी रह गए हैरान
''मुर्दा'' खुद के अंतिम संस्कार के लिए पैसा निकालने पहुंचा बैंक, बैंककर्मी भी रह गए हैरान

murda reached bank: एक मुर्दा खुद के अंतिम संस्कार के लिए पैसा निकालने बैंक पहुंच गया। बैककर्मियों में मच हड़कंप। सारे बैंककर्मी परेशाान। कई बार हम ऐसा सुनते या देखते हैं, जिस पर यकीन करना मुश्किल होता है। अगर आपसे कहा जाएगा कि एक मुर्दा पैसा निकाले बैंक पहुंचा है, तो लोग शायद आप पर यकीन नहीं करेगे, लेकिन ऐसा सच में हुआ है। ये घटना बिहार के पटना में घटित हुई है।

वास्तव में ये पूरा मामला पटना के शाहजहांपुर थाना क्षेत्र के सिगरियावा गांव का है। गांव के महेश यादव की मौत हो चुकी है। गांववासी उसका अंतिम संस्कार के लिए बैंक जाकर उसके खाते में जमा पैसा मांगा तो बैंक अधिकारियों ने पैसे देने से मना कर दिया। इसके बाद ग्रामीण निराश होकर गांव लौट गए। और ऐसा निर्णय लिया जिससे बैंककर्मी हैरान रह गये।

ग्रामीणों ने आपस में सलाह-मशविरा किया और मृतक महेश यादव का अंतिम संस्कार करने के लिए वे उसकी लाश लेकर बैंक पहुंच गए। ग्रामीणों की इस हरकत को देख बैंककर्मी और मौके पर मौजूद लोग हैरान रह गए।

ग्रामीण बैंक में करीब तीन घंटे तक महेश का शव रखे रहे। लंबे समय तक चली बातचीत के बाद बैंक मैनेजर ने दस हजार रुपए देकर मामले को शांत कराया। बाद में ग्रामीण शव लेकर गांव वापस लौटे और श्मशान ले जाकर महेश यादव का अंतिम संस्कार किया।

दरअसल, महेश यादव परिवार में अकेले थे, उनकी उम्र 55 साल थी। उनकी शादी भी नहीं हुई थी। कैनरा बैंक में उनके खाते में 1.18 लाख रुपए जमा हैं। बैंक खाते का कोई नॉमिनी भी नहीं है। इसी वजह से बैंककर्मी ग्रामीणों को पैसा देने से मना कर रहे थे। यही वजह रही कि ग्रामीणों को मजबूरन शव लेकर बैंक जाना पड़ा ताकि शव का अंतिम संस्कार किया जा सके।

Please follow and like us: